अप्रेल 2016

अब पीडीएफ फाइल डाउनलोड करके पढ़व संगी अंजोर छत्तीसगढ़ी मासिक पत्र ल अउ हमला अपन सुझाव जरूर देवव—
पीडीएफ डाउनलोड-



छत्तीसगढ़ के पहिली छत्तीसगढ़ि समाचार पत्र अंजोर—
प्रमुख समाचार—

लोक सुराज अभियान 2016
फोकट के एल.ई.डी. ले खदर-छानी म अंजोर

अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार के प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के सुरूवात 27 अप्रेल से सबो जिला म होगे हावय। ये अभियान के तहत अब जिला के अफसर अउ जनप्रतिनिधि मन गांव अउ नगर म चौपाल लगा के जनता के समस्या के निराकरण करही। राज सरकार के सबो मंत्री मनके संगे-संग अधिकारी मन तको लोक सुराज अभियान म फदके हावय। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ह स्वयं ये अभियान म चौपाल लगावत हावय अउ गांव के जनता ल सौगात देवत हावय। अब गरीबी रेखा ले नीचे जीवन यापन करइया गरीब परिवार मनला तीन-तीन एल.ई.डी. बल्ब बांटे के घोसना होय हाबे। जेन ला मुख्यमंत्री एल.ई.डी. लैम्प वितरण योजना के तहत दे जाही। 
बिजली जलइया बी.पी.एल परिवार मन ये योजना के लाभ ले खातिर अपन तिर के विद्युत वितरण केन्द्र लेे सम्पर्क करे ल परही। ओमन आगू किहिन के ये साल नदी-नाल के तिर भर म लगभग दस हजार किसान ल सोलर सिंचाई पम्प दे के लक्ष्य राखे गे हावय। ये योजना म लघियात काम सुरू हो जही। लोक सुराज अभियान म मउका म सबो विभाग के अफसर मन के ग्राम चौपाल म जुराव होथे। आम जनता उहा अपन समस्या ले संबंधित विभाग ल अवगत कराथे। आवेदन म उचित कार्यवाही तको होवथाबे। प्रमुख रूप ले लोक सुराज म पंचायत अउ ग्रामीण विकास विभाग, स्वच्छ भारत मिशन, शिक्षा विभाग, राजस्व विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, स्वास्थ्य विभाग, महिला अउ बाल विकास विभाग, खाद्य विभाग, आदिम जाति कल्याण विकास विभाग, कृषि अउ उद्यानिकी विभाग, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, विद्युत विभाग से संबंधित काम काज के समीक्षा करे जावथाबे। 

मुख्यमंत्री अमृत योजना ले हफ्ता म एक दिन दूध
आंगनबाड़ी म अब लइका मनला मिलही मीठा दूध

अंजोर.रायुपर। मुख्यमंत्री अमृत योजना के तहत प्रदेश म चलत लगभग 50 हजार आंगनबाड़ी केन्द्र के तीन से छै साल तक के लइका मनला अब मीठा सुगंधित दूध दिये जाही। महिला अउ बाल विकास विभाग के ये योजना के सुरूवात लोक सुराज अभियान म होय हाबे। ये संबंध म राज्य शासन के महिला अउ बाल विकास विभाग ह प्रदेश के सबो जिला कलेक्टर, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला महिला अउ बाल विकास अधिकारी ल परिपत्र जारी कर दे हावय। परिपत्र म केहे गे हावय के आंगनबाड़ी केन्द्र के तीन से छै साल के लइका मनला ल नाश्ता अउ गरम भोजन दे जावथे जेन म अब राज्य शासन डहर ले सप्ताह म एक दिन मीठा दूध देवाय खातिर अमृत योजना चलाये के निर्णय लिये गे हावय। ये योजना म एकीकृत बाल विकास सेवा के अन्तर्गत आंगनबाड़ी केन्द्र के तीन से छै साल के सबो लइका हितग्राही होही। सप्ताह म एक दिन माने हरेक सोमवार के 100 मिलीलीटर मीठा सुगंधित दूध बांटे जाही। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अउ सहायिका ह लइका मनला नाश्ता के बाद बने ढंग ले दूध ल पियाही। कतकोन लइका ल दूध पिये के आदत नइ राहय तेन पाके उलग देथे तिकर बर चिकित्सक मन तको मदद करही। ये योजना के अंतर्गत अल्ट्रा हाई टेम्प्रेचर मीठा सुगंधित दूध (सामान्य तापमान म 90 दिन सुरक्षित रहइया) छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी दुग्ध महासंघ मर्यादित डहर ले प्रदाय करे जाही। एजेंसी कोति ले खाद्य सुरक्षा अउ मानक अधिनियम 2006 के प्रावधान के तहत दूध के गुणवत्ता सुनिश्चित करे जाही। सौ मिली लीटर दूध म पोषक तत्व- तीन ग्राम प्रोटीन, 97 किलो कैलोरी ऊर्जा, तीन प्रतिशत टोटल फैट, 8.5 प्रतिशत एसएनएफ, 14 ग्राम कार्बोहाइट्रेड (टोटल) और 10 ग्राम एडेड सुगर मिले रइही।  

नया रायपुर के चउक-चौराहा के नामकरण 

अंजोर.रायपुर। नया रायपुर के प्रमुख 16 रद्दा अउ 32 चउक के नामकरण होना हावय। ये विषय म छत्तीसगढ़ राज के मुखिया डा. रमन सिंह के कहना हावय के चउक-चौराहा के नामकरण म छत्तीसगढ़ अउ राष्ट्रीय परिवेश ल धियान म राख के करे जाही। आगू ओमन किहिन के येमा आम जनता के तको भागीदारी रइही। जनप्रतिनिधि अउ आम जनता ले ऑनलाइन सुझाव मंगाय जाही जेमा एक उच्च स्तरीय समिति ह विचार करके निर्णय लेही। ये सब बात ओमन अपन निवास कार्यालय के बइठका म किहिन। ये मउका म संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर, लोकनिर्माण मंत्री राजेश मूणत, पर्यटन अउ संस्कृति मंत्री दयाल दास बघेल, छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग के अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार पाठक, मुख्यसचिव विवेक ढाँड, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, सचिव सुबोध सिंह, पर्यटन संस्कृति अउ जनसम्पर्क विभाग के सचिव संतोष मिश्रा, नया रायपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रजत कुमार, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता अउ जनसंचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डॉ. मानसिंह परमार, नामकरण समिति के सदस्य सुरेन्द्र दुबे, लक्ष्मी शंकर निगम अउ अशोक तिवारी मन तको बइठका म जुरियाए रिहिन हाबे। 

चौपाल म एक दिन के दफ्तर 

छत्तीसगढ़ सरकार के प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान पुरा प्रदेश म एक साथ चलत हावय। गांव के गुड़ी म सबो विभाग के लोगन मन जुरियाके, अपन समस्या अउ शिकायत के आवेदन अफसर मनला सऊपथे। सबो के संघरे जुराव होवय के सेती आम जनता के आवाज बुलंद रिथे। शासन-प्रशासन उंकर बात ल सुनथे तको। एके दिन के सुराज के सेती जनता म निराशा के संगे-संग खुशी तको हावय के कम से कम एक दिन तो अफसर मन गांव म आथे जेन मनला खोजत दफ्तर के चक्कर काटत रहिथन। 
लोक सुराज ले एक बात तो बने होवथाबे के अफसरगिरी म लगाम लगत हावय, भले एक दिन सही। सरकार के सभो विभाग के मंत्री के संगे-संग स्वयं मुख्यमंत्री तको लोक सुराज के निगरानी करत हावय तेन पाके कोनो अफसर के रौब नइ चलत हावय। नइते अक्सर देखब म आथे के जब ओकर दफ्तर जाबे तव एक दिन के काम खातिर तको दस दिन पदोथे। अधिकारी मिलथे तव बाबू छुट्टी म अउ बाबू मिलथे तव अधिकारी दौरा म चल देथे। आदमी के नाव-गांव देख के तको काम ल लटका देथे। गांव के किसान मनके पटवारी अउ तहसील कार्यालय मन म अइसे निरादर होथे के मानो छत्तीसगढ़िया मजदूर किसान दू कउड़ी के आदमी होगे। सबले जादा आवा जाही किसान मन के पटवारी अउ तहसील कार्यालय म होथे, एक दिन के काम म किसान मन महीना भर ले चक्कर काटथे उंहचे दलाल मन के काम एक घंटा म हो जथे। 
गांव म लोक सुराज के आयोजन होवथाबे तव कतकोन किसान के समस्या के निराकरण तुरते होवथाबे। योजना के हितग्राही मनला तुरते होकर लाभ दे जावथाबे। हरेक गांव ले अइसे आरो मिलत हावय के किसान ला मुआवजा के रकम मिलगे, आधुनिक खेती के जानकारी संगे संग कृषि औजार मिलगे। अइसने सरकार के तमाम योजना मनके बारे म लोक सुराज अभियान शिविर म जानकारी दे जावथे। लोगन मन खातिर सरकार के गजब अकन लाभकारी योजना हावय फेर जानकारी के आभाव म आम जनता ओकर लाभ नइ ले पावय। कतको विभाग के कर्मचारी मन अलाली के सेती बने जानकारी तको नइ देवय दफ्तर म। लेकिन लोक सुराज शिविर म बड़े-बड़े अफसर मनके जुराव होवथाबे तेन पाके सबो कर्मचारी मन चेत करके काम करत हावय। एक दिन के चौपाल म अतेक काम निपट जावथे जतका छै महीना म नइ होवय। आवेदन के आंकड़ा ल देखे जाय तव एक तिहाई ले आगर आवेदन के तुरते निपटारा होवथाबे। 
सोचे के विषय आए के छै महीना के काम एक दिन म होवथे। येकर दूसर पक्ष ल देखे जाए तव यहू सोचे जा सकत हावय के अधिकारी अउ कर्मचारी मन जबरन एक दिन के काम ल छै महीना ले लटका के राखय। अगर प्रशासन सही तरीका ले काम करतिस तव दफ्तर म काम के बोझा नइ परे रितिस। अगर विभाग काम के समय अउ कर्मचारी के कमी के हवाला देथे तव ओमन लोक सुराज के अपने काम के आकड़ा देखय। जब लोक सुराज म एक दिन म काम के निपटारा हो सकत हावय तब आन दिन काबर नइ हो सकय? लोक सुराज म सैकड़ों हितग्राही मनला सम्मान के साथ सौगात मिलथे तव आन दिन उही योजना के लाभ खातिर महीना भर चक्कर काटे ल काबर परथे। जबकि उही विभाग उही अफसर मन अड़हा दिन तको काम करत रिथे। कुल मिलाके केहे जाए तब गांव के चौपाल म हर दिन सुराज शिविर के जरूरत हावय।    
* जयंत साहू*

खाद्य प्रसंस्करण, इलेक्ट्रॉनिक्स अउ इंजीनियरिंग के क्षेत्र म लगही नवा उद्योग

अंजोर.रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के अध्यक्षता म आयोजित कायक्रम म खाद्य प्रसंस्करण, इलेक्ट्रॉनिक्स, कोयला के मूल्य संवर्धन अउ इंजीनियरिंग के क्षेत्र म सात कम्पनी संग समझौता ज्ञापन  (एम.ओ.यू.) म दस्तखत होय हावय। समझौता ज्ञापन के अनुरूप निवेशक कम्पनी डहर ले छत्तीसगढ़ म लगभग 236 करोड़ रूपिया के पूंजी निवेश होही अउ लगभग दो हजार स्थानीय युवा मनला रोजगार के मौका मिलही। खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र म मेसर्स एस्क्वायरफूड्स अउ बेवरेजेस कम्पनी कोति ले 25 करोड़ रूपिया के पूंजी निवेश होही। ये कम्पनी ह मसाला प्रसंस्करण के यूनिट लगाही। कम्पनी के यूनिट ह कच्चा माल खरीद के ओकर साफ-सफाई करके मिलिंग, रोस्टिंग अउ पैकेजिंग अउ ओकर भंडारण करही। इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र म मेसर्स एसडीएसएल इलेक्ट्रानिक्स प्राइवेट लिमिटेड, मेसर्स लिगेरो इलेक्ट्रानिक्स प्राइवेट लिमिटेड अउ मेसर्स बीसन्स प्राइवेट लिमिटेड ह नया रायपुर के इलेक्ट्रॉनिक मैन्यू फैक्चरिंग क्लस्टर (ई.एम.सी.) म एल.ई.डी. निर्माण करही। 

फल अउ सब्जी के कचरा ले बनही कंपोस्ट खाद

अंजोर.रायपुर। राज सरकार फल अउ सब्जी के कचरा ले हरा खाद बनाये खातिर प्रदेश के सब्जी मंडी म कंपोस्ट प्रोडक्शन यूनिट लगाये के फैसला करे हावय। राज्य शहरी विकास अभिकरण ह सबो 168 नगरीय निकाय ल निर्देश जारी करे हावय के वो अपन-अपन क्षेत्र म अइसन सब्जी मंडी के जानकारी पठोय जिहा ज्यादा मात्रा म फल अउ सब्जी के कचरा निकलथे। नगर पालिक निगम के आयुक्त,नगर पालिका परिषद अउ नगर पंचायत के मुख्य नगर पालिका अधिकारी मन तीन दिन के भीतन अपन जानकारी पठोही। जानबा होवय के कंपोस्ट यूनिट लगाये के काम कृषि विभाग कोति ले करे जाही। 

बढ़िया परिणाम खातिर सतत् प्रयास करय: कश्यप

अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल कार्यालय के सभागार म राज्य के सबो शासकीय शाला के प्राचार्य मनके बइठक आयोजित करे गे रिहिस हावय। जेन म प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ह परीक्षा परिणाम ले नाराज होवत सबो प्राचार्य मनला किहिन के अपन-अपन स्कूल म बने ले बने परिणाम लाने खातिर प्रयास करय। जिहा ज्दाया खराब परिणाम आए हाबे उहां सुधारे के कोशिश होना चाही। बइठका म स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव अउ छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष सुब्रत साहू, संचालक लोक शिक्षण एल.एस मरावी, मयंक बरबड़े के संगे-संग गजब झिन प्राचार्य जुरियाए रिहिन हाबे। प्राचार्य मनला हिदायत देवत स्कूल शिक्षा मंत्री ह किहिन के संचालन म बेहतर प्रदर्शन म धियान देके जरूरत हावय। जेकर से स्कूल म पढ़ाई माहौल बनही। नियमित स्कूल म लइका अउ शिक्षक मनके उपस्थिति अउ पाठ्यक्रम के अध्यापन म जोर देवय। 

प्रधानमंत्री के उज्जवला योजना के पहिली चरण
छत्तीसगढ़ म दस लाख गरीब परिवार ल मिलही फोकट म रसोई गैस

अंजोर.रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के घोषित Óउज्जवला योजनाÓ के पहिली चरण म छत्तीसगढ़ के लगभग दस लाख गरीब परिवार ल फोकट म रसोई गैस कनेक्शन दे जही। ये बात के जानकरी राज्य के मुखिया ह लोक सुराज अभियान म दे हावय। ओमन खाद्य, नागरिक आपूर्ति अउ उपभोक्ता संरक्षण विभाग के अधिकारी मनला उज्जवला योजना ल शुरू कराये खातिर कार्य योजना बनाये के निर्देश तको दे हावय। डॉ. रमन सिंह ह प्रधानमंत्री के ये योजना ल सर्वोच्च प्राथमिकता देवत बताइन के गरीब परिवार ल नि:शुल्क रसोई गैस कनेक्शन दे खातिर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन दुकान ल नियमानुसार डीलर बनाये जाही। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेश के आंगनबाड़ी केन्द्र खातिर कोरिया जिला ले 'महतारी जतनÓ योजना के शुरूवात करत किहिन के ये योजना ले गर्भवती माता मनला अउ होवइया लइका मनला कुपोषण ले बचाये म मदद मिलही। ये दिशा म सबो अधिकारी मनला किहिन के जिम्मेदारी ले काम करव। आगू ओमन ऊर्जा विभाग के अधिकारी मनला जिहां बिजली नइ पहुंचे हावय उहां तक बिजली पहुंचाय के काम ल जोर-सोर ले पूरा करे जाय। कोरिया जिला म विकासखण्ड जनकपुर के कुछ गांव जिहां अलग छत्तीसगढ़ राज बने के बाद घलोक मध्यप्रदेश राज्य ले बिजली आवथे उहंचो लघियात छत्तीसगढ़ के बिजली पहुंचय। ये योजना खातिर ऊर्जा विभाग ह वन विभाग ल लगभग पांच करोड़ जारी करे हावय। 

मनरेगा अउ इंदिरा आवास योजना ले मजदूर मनला मिलत हावय अब ज्यादा रोजगार

अंजोर.रायपुर। राज सरकार गांव के आवासहीन गरीब परिवार मन खातिर आवास बनाये के बुता म बने जिकर करत हावय। ये दिशा म इंदिरा आवास योजना के तहत वर्ष 2015 म लगभग 172 करोड़ 39 लाख रूपिया ले 26 हजार 127 आवास बनाये के काम पूरा होगे हावय अउ 59 हजार 677 मकान बनाये के काम चलत हावय। गांव के मजदूर मनला अब मनरेगा अउ इंदिरा आवास योजना दूनो म बने काम मिलत हावय।  पंचायत अउ ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी मनले मिले जानकारी के मुताबिक इंदिरा आवास योजना के अंतर्गत आवास निर्माण या आवास ल बने बनाये खातिर सामान्य क्षेत्र म हितग्राही मनला 70 हजार रुपिया मिलत हावय, उहंचे पहाड़ी क्षेत्र म ये अनुदान 75 हजार रुपिया हावय। 

खरीफ फसल खातिर रासायनिक खाद के वितरण शुरू 

अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ म खरीफ मौसम खातिर किसान मनला प्राथमिक सहकारी साख समिति डहर ले रासायनिक खाद के वितरण के काम सुरू होगे हावय। 71 हजार 699 मीटरिक टन उर्वरक के वितरण तको होगे हावय जेमा 31 हजार 832 मीटरिक टन यूरिया, सात हजार 941 मीटरिक टन सुपर फास्फेट, पांच हजार 332 मीटरिक टन पोटाश, 22 हजार 882 मीटरिक टन डी.ए.पी. अउ तीन हजार 712 मीटरिक टन एन.पी.के. खाद सामिल हावय। राज्य के कृषि बृजमोहन अग्रवाल के बताये अनुसार खरीफ मौसम 2016 म किसान मनला 10 लाख 85 हजार मीटरिक टन रासायनिक उर्वरक बांटे के लक्ष्य राखे गे हावय। अभी प्राथमिक सहकारी साख समिति के डबल लाक म चार लाख 93 हजार 521 मीटरिक टन उर्वरक के भंडारण करे जा चुके हावय। जेमा दू लाख 59 हजार 101 मीटरिक टन यूरिया, 38 हजार 371 मीटरिक टन सुपर फास्फेट, 35 हजार 707 मीटरिक टन पोटाश, एक लाख 24 हजार 260 मीटरिक टन डी.ए.पी. अउ 36 हजार 79 मीटरिक टन एन.पी.के. के भांडरण होगे हावय। जने बखत म किसान मनला वितरण करे जाही। 

सूखा प्रभावित किसान मनला फोकट म बिजहा

अंजोर.रायपुर। राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत मुआवजा पाये सूखा प्रभावित छोटे अउ मंझोलन किसान मनला बोवाई खातिर धान के बिजहा फोकट म दे जाही। येकर खातिर सरकार ह साढ़े चार लाख क्विंटल ले आगर के करार तको कर डरे हावय। ये संबंध म कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव अउ कृषि उत्पादन आयुक्त ह मंत्रालय (महानदी भवन) म कृषि ले जुरे सबो विभाग के अधिकारी मनके बठक लेके खरीफ मौसम म खाद, बीज अउ कृषि ऋण वितरण के तैयारी के समीक्षा करत निर्देश तको दे हावय। राज्य सहकारी बैंक के प्रबंध संचालक ले मिले जानकारी के मुताबिक ये साल खरीफ मौसम म किसान मनला दू हजार 800 करोड़ रूपिया के अल्पकालिक कृषि ऋण उपलब्ध कराए के लक्ष्य रखे गे हावय। अब तक 211 करोड़ रूपिया के करजा दे जा चुके हावय। एमा 169 करोड़ रूपिया नगद अउ 42 करोड़ सामग्री के रूप म उपलब्ध कराए गे हावय। 

बालक कल्याण समिति के पुर्नगठन

अंजोर.रायपुर। राज्य सरकार ह राज्य स्तरीय चयन समिति के अनुशंसा म प्रदेश के जिला मन म बालक कल्याण समिति के 19 अध्यक्ष अउ 53 सदस्य के चयन करत समिति के पुर्नगठन करे हावय। ये संबंध म राज्य शासन के महिला अउ बाल विकास विभाग डहर ले जार आदेश के मुताबिक बालोद जिला म सनत सोनबरसा, बलौदाबाजार जिला म  देवेन्द्र कुमार साहू, बस्तर जिला म श्रीमती शांति तिवारी, बिलासपुर  जिला म श्रीमती मीना बख्शी, दंतेवाड़ा जिला म श्रीमती बबीता पाण्डेय, धमतरी  जिला म श्रीमती ममता रणसिंह, दुर्ग जिला म श्रीमती पुष्पा पटेल, जांजगीर-चांपा जिला म  दुजेराम ज्योति, जशपुर जिला म श्रीमती हेमा शर्मा, कवर्धा जिला म श्रीमती शबनम बेगम, कांकेर जिला म गजानंद जैन, कोरबा जिला म संजय दास मानिकपुरी, कोरिया जिला म मुकेश कुमार पयासी, महासमुंद जिला म नेतराम डडसेना, रायगढ़ जिला म श्रीमती दिव्या तिवारी, रायपुर जिला म राजेन्द्र प्रसाद निराला, राजनांदगांव जिला म श्रीमती सरिता सिन्हा, सूरजपुर जिला म रामसेवक सिंह, सरगुजा जिला म श्रीमती गीता श्रीवास्तव ल बालक कल्याण समिति के अध्यक्ष नियुक्त करे गे हावय। अध्यक्ष मनके चयन नियुक्ति शर्त के मुताबिक अभ्यर्थी मनके आवेदन अउ दस्तावेज के आधार म करे गे हावय। कोना प्रकार के गलत जानकारी या फेर शिकायत होय म संबंधित के चयन निरस्त करे के अधिकार चयन समिति करा हावय। इंकर कार्यकाल तीन साल के होही। 

राजधानी रायपुर म देश के सबले बड़का तिरंगा
देश के आन-बान अउ शान के प्रतीक हमर राष्ट्रीय ध्वज: डॉ. रमन सिंह

अंजोर.रायपुर। राजधानी के तेलीबांधा तरिया के पार (मैरीन ड्राइव)म देश के सबले बड़का तिरंगा झंडा फहरावत हावय। ये ध्वज ल फहरावत राज्य के मुख्यमंत्री ह किहिन के ये तिरंगा न सिरिफ छत्तीसगढ़ के नहीं बल्कि पूरा देश के आन-बान अउ शान के प्रतीक आए। आज ये ऐतिहासिक समय आए छत्तीसगढ़ बर के इहां देश के सबले बड़का ध्वज लहरावत हवय। ये ध्वज हमर तरक्की अउ खुशहाली के चिन्हारी आए। ओमन आगू किहिन के आजादी के लड़ाई म हजारों देशभक्त मन भारत माता के मुक्ति इही तिरंगा ले प्रेरणा लेके कड़ा संघर्ष करत अपन प्रण के आहुति दिन। हमर तिरंगा शान से तभे फहराही जब हम गरीब आदमी ल ओकर हक देबो। राज्य सरकार हमेसा लोगन के स्वाभिमान के रक्षा अउ गरीब मनला ओकर हम दे के काम करही। ये मउका म लोकसभा सांसद रमेश बैस, कृषि मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल, नगरीय विकास मंत्री अमर अग्रवाल, लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत, छत्तीसगढ़ राज्य पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल, विधायक श्रीचंद सुंदरानी, सत्यनारायण शर्मा, नगर निगम रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे, सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा, नेता प्रतिपक्ष सूर्यकांत राठौर के संंग नगर के आम जनता मन जुरियाए रिहिन हाबे। जनबा होवय के देश के सबले बड़का तिरंगा झंडा ह 82 मीटर ऊंचा खंभा म फहरावत हवय। मरीन ड्राइव म लहरावत झंडा के लंबाई 150 फीट हावय, ऊचाई 70 फीट अउ  ओकर वजन लगभग 60 किलो हावय।

कमती किमत म उच्च गुणवत्ता के जेनेरिक दवई
राजधानी रायपुर सहित 24 जिला म 109 जन औषधि केन्द्र शुरू

अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ राज शासन डहर ले सरकारी जिला अस्पताल भवन म जन औषधि केन्द्र खोले गे हावय जिहा मरीज मनला ब्रांडेड दवाई ले सस्ती किमत म उच्च गुणवत्ता के जेनेरिक दवाई दे जावथे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मनके मुताबिक राज्य म अब तक 109 जन औषधि केन्द्र खोले जा चुके हावय। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ह स्वास्थ्य विभाग के समीक्षा बइठका म विभागीय अधिकारी मनला जन औषधि केन्द्र अउ जेनेरिक दवाई के व्यापक प्रचार-प्रसार करे के निर्देश दे हावय। ओमन आगू किहिन के प्रिंट अउ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सहयोग ले अउ दीवार लेखन आदि के माध्यम ले जन-जन तक संदेश पहुंचाया जाना चाही। स्वास्थ्य विभाग ह अब तक खोले जन औषधि केन्द्र ल जेनेरिक दवाई के खरीदी खातिर लगभग एक करोड़ 09 लाख रूपिया के आवंटन भी जारी कर दे हावय। जानबा होवय के प्रधानमंत्री ह छत्तीसगढ़ प्रवास के बखत राजनांदगांव के जिले कुर्रूभाठ (डोंगरगढ़) म आयोजित कार्यक्रम म राज्य के जनऔषधि केन्द्र परियोजना के शुभारंभ करे रिहिसे। स्वास्थ्य विभाग ले मिले जानकारी के मुताबिक प्रदेश के जांजगीर-चाम्पा अउ राजनांदगांव जिला म 10-10, रायगढ़ जिला म 9, बिलासपुर जिला म 8, बस्तर, सरगुजा जिला म 7-7, महासमुंद जिला म 6, रायपुर, कोरिया, कोण्ड़ागांव, धमतरी, बालोद जिला म 5-5, दुर्ग जिला म 4, बलौदाबाजार-भाटापारा, बलरामपुर, बेमेतरा जिला म 3-3, गरियाबंद, जशपुर, उत्तर बस्तर (कांकेर), कवर्धा, मुंगेली, नारायणपुर म 2-2, दक्षिण बस्तर (दंतेवाड़ा) अउ सूरजपुर म एक-एक जन औषधीय केन्द्र खोले गे हावय। 
जेमा के जिला जांजगीर-चाम्पा में शासकीय जिला अस्पताल जांजगीर सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अकलतरा, बलौदा, बम्हनीडीह, डभरा, जैजैपुर, मालखरौदा, नवागढ़, पामगढ़ और सक्ती। जिला राजनांदगांव म शासकीय जिला चिकित्सालय राजनांदगांव अउ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अम्बागढ़ चौकी, छुईखदान, छुरिया, डोंगरगांव, डोंगरगढ़, घुमका, खैरागढ़, मानपुर अउ मोहला। जिला रायगढ़ म जिला चिकित्सालय रायगढ़ सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धरमजयगढ़, घरघोड़ा, खरसिया, सांरगढ़, तमनार, बरमकेला, लैलूंगा पुसौर। जिला सरगुजा म शासकीय जिला अस्पताल अम्बिकापुर सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धौरपुर, लखनपुर, मैनपाट, सीतापुर, उदयपुर और बतौली। जिला बस्तर म शासकीय जिला अस्पताल जगदलपुर सहित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बड़े किलेपाल, बकावण्ड, भानपुरी, लोहाण्डीगुड़ा, तोकापाल, दरभा। जिला दंतेवाड़ा म शासकीय जिला अस्पताल दंतेवाड़ा। जिला बालोद म शासकीय जिला अस्पताल बालोद, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गुण्डरदेही।

नपानि बिलासपुर के खाता म भुगतान नइ करे के मामला म पंजाब नेशनल बैंक ल नोटिस

अंजोर.बिलासपुर। राज्य शहरी विकास अभिकरण डहर ले राजधानी रायपुर के कटोरा तालाब के पंजाब नेशनल बैंक के शाखा ल कारण बताओ नोटिस जारी करे गे हावय। बैंक ल ये नोटिस नगर पालिक निगम बिलासपुर के खाता म छोटे अउ मंझोलन शहर म नगरीय अधोसंरचना विकास योजना (यू. आई. डी. एस. एस. एम .टी.) के तहत चार करोड़ 78 लाख 52 हजार रुपिया के भुगतान म लापरवाही करे के सेती होय हाबे। जानबा होवय के 27 जुलाई 2015 के पंजाब नेशनल बैंक ल नगर पालिक निगम बिलासपुर के खाता म आर टी जी एस के माध्यम ले तत्काल चार करोड़ 78 लाख रुपिया के भुगतान करे के निर्देश दे गे रिहिसे फेर बैंक ह राशि के स्थानांतण नइ करिस। बिलासपुर नगर निगम ल राशि नइ मिले के सेती काम म देरी होइसे अउ इही पाके भारत सरकार ल योजना के उपयोगिता प्रमाण पत्र नइ भेजे जा सकिस। 

बिर्रा शिविर म कृषि उपकरण के वितरण

अंजोर.जांजगीर-चांपा। बम्हनीडीह विकासखण्ड के ग्राम बिर्रा म जिला स्तरीय सुराज शिविर के आयोजन करे गे रिहिसे। शिविर म लोगन मन अपन मांग अउ शिकायत पाती अधिकारी मन ला सौपिस, 177 आवेदन म 59 आवेदन के निराकरण तुरते करे गिस। शिविर म जैजैपुर विधायक केशव चन्द्रा ह जनता ल संबोधित करिस अउ शासकीय योजना मनके जानकारी देवत हितग्राही मनला सामान वितरण तको करिस। शिविर म उपस्थित अतिथि मन  कृषि विभाग के कृषि यंत्रीकरण योजना के तहत 50 प्रतिशत अनुदान म 5 किसान ल स्प्रेयर पंप प्रदान करिस। समाज कल्याण विभाग के योजना ले 3 दिव्यांग ल नि:शुल्क ट्राय सायकल प्रदान करे गिस। उद्यानीकी विभाग डहर ले 10 किसान ल मक्का मिनीकीट प्रदान करे गिस। मुख्यमंत्री निर्माण मजदूर सुरक्षा उपकरण सहायता योजना के तहत 2 श्रमिक 15-15 सौ रूपिया के चेक अउ श्रमिक विवाह योजना के तहत 3 श्रमिक ल 15-15 हजार रूपिया के चेक प्रदान करे गिस। 

जल संरक्षण म सरकार करही मदद

अंजोर.बिलासपुर। दिनों-दिन पानी के गिरत स्तर ल देखत अब सरकार ह घलोक लोगन ले अपील करत हावय के पानी बचाय के उदीम करव हम मदद करबो। बिलासपुर कलेक्टर ह लोक सुराज शिविर म पानी बचाये के तरीका बतावन किहिन के लोगन मन अपन-अपन खेत अउ बारी म छोटे-कुआं या फेर डबरी खोदय जेमा सरकार ह मदद करही। अइसन करे ले जल स्तर म सुधार होही संगे-संग निस्तारी के समुचित बेवस्था तको होही। किसान मनला अऊ जादा फायदा होगी ऊंकर खेत के फसल ल तको पानी मिलही। किसान मन जल संरक्षण खातिर काम करय अउ पानी बचावत अपन खेत के उपज ल तको बढ़ावय। ओमन आगू किहिन के खरीफ  म धान के खेती के बाद किसान मन ओमा उतेरा पद्धति ले दलहन-तिलहन लगावए जेकर ले जमीन के उर्वरा शक्ति बढ़ेही। शिविर म जेन मजदूर मन मनरेगा के मजदूरी नइ मिले के शिकायत करिन ओमन ल बताइन के अब 15-20 दिन के भीतर भुगतान पोस्ट आफिस के माध्यम ले होही। अऊ अवइसा साल सुखाग्रस्त इलाका म नगद भुगतान के बेवस्था करे जाही। 

आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के धारा 3/7 के अतंर्गत कार्यवाही
दार मिल अउ कोल्ड स्टारेज म छापामारी, क्षमता ले ज्यादा स्टाक

अंजोर.बिलासपुर। जिला कलेक्टर के निर्देश म खाद्य विभाग अउ राजस्व विभाग के टीम ह शहर के दार मिल अउ कोल्ड स्टोरेज म छापामार कार्यवाही करत आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के धारा 3/7 के अतंर्गत कार्यवाही करिस। जेमा मेसर्स राजकुमार श्रीचंद दार मिल तोरवा म उड़त खड़ा 44.32 क्विंटल अउ उड़द दाल 11.70 क्विंटल निर्धारित स्टाक क्षमता ले आगर पाये गिस। मेसर्स लक्ष्मीचंद भगवान दास दाल मिल देवरीखुर्द म खड़ा उड़द 31.37 क्विंटल, उड़द दाल 1.60 क्विंटल, मटरदाल 17.20 क्विंटल निर्धारित स्टाक क्षमता ले ज्यादा पाये गिस। मेसर्स जगदम्बा कोल्ड स्टोरेज सिरगिट्टी म 1612.20 क्विंटल दार जप्त करे गे हावय। जेमा चना 601 क्विंटल, चना दाल 203 क्विंटल, राहर दाल 114 क्विंटल, मसूर खड़ा 30 क्विंटल, मसूर मोटा 55.20 क्विंटल अउ मटर 114 क्विंटल शामिल हावय। मेेसर्स नारायण प्रोसेसिंग देवरीखुर्द कना तो लायसेंस घलोक नइ रिहिसे अइसने मेसर्स नितिन दाल मिल सिरगिट्टी म स्टाक ले 26.32 क्विंटल ज्यादा राहर दाल पाये गिस।

पाली म लोक सुराज अभियान शिविर

अंजोर.कोरबा। लोक सुराज अभियान अन्तर्गत जिला स्तरीय लोक सुराज शिविर के आयोजन पाली विकासखंड मुख्यालय म संसदीय सचिव लखलाल देवांगन, जिला पंचायत अध्यक्ष देवी सिंह टेकाम, नगरपालिका अध्यक्ष संजू जायसवाल के संग अऊ आन जनप्रतिनिधि मनके सियानी म करे गे रिहिसे। लोक सुराज शिविर म जुरियाए जनता ल संबोधित करत मुख्यअतिथि ह किहिन के शासन डहर ले सबो वर्ग के लोगन खातिर योजना चलत हावय। अउ लोक सुराज अभियान के उद्देश्य ग्रामीण जन के समस्या के निराकरण करना हवय। ओमन आगू किसान मनला किहिन के कोनो ल अब पलायन करे के जरूरत नइये सबो इहां बरोबर काम हवय। किसान मन प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, स्वायल हेल्थ कार्ड जइसन सुविधा के लाभ उठाके आर्थिक रूप ले मजबूत बनय।
कार्यक्रम ल आगू जिला पंचायत अध्यक्ष देवी सिंह टेकाम, संजू जायसवाल विलास संदीपान मन तको संबोधित करिन। 

देवभोग दूध में मिलावतट के शिकायत
दूध के गुणवत्ता जांच म लापरवाही झिन होवय: विक्रेता संघ

अंजोर.रायगढ़। प्रदेश म सबले ज्यादा भरोसा लोगन ल देवभोग दूध म हावय इही पाके महतारी मन अपन लोग लइका के बने सेहत खातिर देवभोग दूध ल बिसाथे फेर यहू दूध ह मुनाफाखोरी के भेट चड़गे। लोगन के सेहत संग खिलवाड़ करत गुणवत्ताहीन दूध वितरण के शिकायत देवभोग दूध म तको आवत हावय। पाछू दिन रायगढ़ म स्वयं देवभोग दूध बेचइया मन येकर शिकायत कलेक्टर सो करत ओमन दूधा के गुणवत्ता के जांच करे के मांग करे हावय। जानबा होवय के येकर आगू घलोक दूध के गुणवत्ता ल लेके शिकायत होवय हाबे। जांच म डेयरी म गंदगी अउ खराब दूध पाये गिस अऊ बाद म ओमन ल चेतावनी देके छोड़ दिये गिसे। दूध के गुणवत्ता म सुधार नइ होय के सेती ओकर व्यवसाय म गिरावट तको आए हाबे।  
शिकायतकर्ता म देवभोग एजेंट तको सामिल हावय ओकर कहना हावय के खराब दूध के सेती ओमन ल लोगन के गुस्सा अउ नाराजगी तको झेले ल परथे। ओमन के यहू कहना हावय के ये बात के जानकारी डेयरी प्रबंधन दे ओमन एजेंट मनला ही धमका देथे। जेकर से मजबूर होगे ओमन कलेक्टर ले शिकायत करे हावय। डेयरी संस्थान के पूरा जांच होना चाही अउ दूध के सेंपल लेके लैब जांच के बाद दूध के वितरण करे जावय।

कला महोत्सव म बांसगीत के कलाकार मनला  मउका मिलना चाही: गुलाल राम निषाद

बांसगीत गायन के क्षेत्र म गुलाल राम निषाद एक बड़का नाम आए। जिहां भी बॅसगरी मनके बांस गायन के परंपरा ल आगू बड़इया पुरोधा मनके गोठ होथे उहां गुलाल राम निषाद के नाव तको आगू आथे। दुर्ग जिला के पथर्रा गांव म जनमे ये कलाकार ह नानपन ले यदुवंशी मन के संगत म रेहे अउ पले-बड़े हावय इही पाके ऊंकर कला ल आगू बड़ाय के उदीम म जबर बुता तको करिस। निषाद परवार के लइका ह एक सफल बांस गायक के रूप म अपन नाव अउ कुल के सोर सरी अंचल म बगरा के अमर होगे। गुलाल राम निषाद के दुनिया ले जाये के बाद ओकर संगत के आदमी मन ओकर सुरता करत किथे के जनम धरिस निषाद परिवार म फेर ठेठवार समाज के संस्कृति अउ पंरपरा ह ओकर भीतर अतेक गहिर ले समाइस के आदत अउ आचार-विचार, बोलचाल अउ पहनावा तको राऊत मन सहिक राहय। अनगइहां बॅसगरी मनतो गुलाल ल राउतेच समझय। 
जनबा होवय के छत्तीसगढ़ म बांसगीत गायन के कला ह यादव समाज द्वारा ज्यादार गाये जाथे। गाय चरावत खेत-खार म गुनगुनावत रिथे। उहि मन बांस गायन दल के संचालन करथे, कहु-कहु आन समाज के मन कला के सेती जुरथे फेर सहयोगी कलाकार के रूप म। फेर गुलाल राम निषाद बांस गायन दल के संचालक रिहिसे। निषाद समाज के होय के बाद भी उनला बांस वाद्य बजाय अउ गाए म महारथ हासिल रिहिसे। गुलाल राम निषाद भले आज दुनिया ले विदा होगे फेर ओमन जोन बांस गायन के क्षेत्र म अपन ठऊर पोकराए रिहिसे ओ हमेशा रिता रइही। 
गुड़ी चउंरा अउ संस्कृति विभाग डहर ले आयोजित राज्य स्तरीय बांसगीत महोत्सव म तको ओमन अपन टोली सहित पहुंचे रिहिसे। उहंचे लोक कलाकार शिव चंद्राकर संग गुलाल राम निषाद के मुहांचाही होइस- 
ा कब ले बांसगीत गावत हव?
 जब ले होस संभालेवं तब ले अपन आप ल राउत मनके बीच पायेव अउ ओमन जोन करय ओला महुं प्रयास करवं, बांस ल घलो उहिच मनला देख-सुन के सीखवे।  
ा जीवन यापन कइसे होथे, बांस गायन के अलावा अऊ का काम करथ?
 इहां कोन लोक कलाकार के कला के भरोसा परवार चले हावय जेमा मोर जीवन चलही? कला ले मन भरत हावन अउ पेट भरे खातिर खेती-किसानी करथन। 
ा आप जात के निषाद अउ बांस के बड़का कलाकार, कतकोन राउत बॅसगरी मन आप ल गुरू मानथे तव येमा आपके का विचार हाबे?
 येहा तो कला आए। जाति समाज के कला उपर कोनो बंधन नइ होना चाही। मोर भीतर बांस प्रति लगाव रिहिसे, लगन रिहिसे तेन पाके सीख गेवं। रहिगे बात गुरू के तव जोन भी मैं कला जानथवं ओला दूसर ल सीखाय के जरूर प्रयास करथवं।
ा बांस गायन के कला ह बड़का मंच म काबर नइ दिखे?
 येकर जवाब तो छत्तीसगढ़ के कला संस्कृति के सरेखा करे के ठेका ले हावय तेन मन ले पुछतेव त बने होतिस। बांस कलाकार ल बड़का मंच म प्रस्तुती के मौका नइ मिलय। सोचे के बात आए हमर राज म अतेक बड़े-बड़े कला महोत्सव होवथे फेर बांस कोति काबर चेत नइ करत हावय ते। बड़े मंच म प्रस्तुती के अवसर नइ मिले के सेती तो नवा पीढ़ी आगू नइ आवत हावय। जेन सियनहा कलाकार बांच हावय ओहू मन सौकिया बजावत हवय। गांव-गांव म बांस गायन के आयोजन होते रिथे लेकिन कोनो प्रकार के प्रशासनिक आयोजन म बांस कला ल अवसर नइ मिलय। कला महोत्सव मन म तको बांस कलाकार मन ल मौका देना चाही। 
ा परवार म अऊ कोन-कोन हावय?
 पत्नी फुलवा बाई, बेटा हे तीन झिन मंथिर, प्रहलाद अउ पवन। एक झिन नोनी हावय मंगलिन, सबो के बर बिहाव होगे हावय अउ खेती-किसानी करत अपन-अपन घर दुवार ल चलावत हावय।
ा बांस के नवा पीढ़ी ल का कहना चाहत हव?
 बांस बजाना एक अद्भुत कला आए। येहा श्वास अउ दिगाम दूनो बर बने होथे। सरकार ह बांस कला ल बचाय के प्रयास करय चाहे मत करय नवा पीढ़ी मन जरूर सीखय बिगर कोनो सुवारथ के। नंदावत बांस गीत गायन के पंरपरा ल युवा मन सरेखा करे के उदीम करत राहय बस मोर इही अरजी हावय।

सरल अउ सहज भाव संग लयबद्ध गीत के गठरी-'बगरे हे चंदा अंजोरÓ

डॉ. पीसी लाल यादव माटी ले उपजे कलमकार आए। ओमन गांव के संस्कृति ल जीथे। नस-नस म कला अउ साहित्य जेकर लहू संग दउड़थे असल म आरूग सृजन ओकरे कलम ले होथे। पीसीलाल यादव जी के गीत पढ़े म अइसे जनाथे मानो ओमन सिरिफ मन म उमड़े भाव ल कागज नइ उतारे हावय बल्कि छत्तीसगढ़ महतारी के करजा उतारत हवय। धन्य हे छत्तीसगढ़ के गंडई ग्राम जिहा के लाल ह छत्तीसगढ़ी साहित्य ल पो_ करे खातिर सरलग कलम चलावत हावय।
तेइसवां कृति के रूप म प्रकाशित पुस्तक छत्तीसगढ़ी बालगीत-'बगरे हे चंदा अंजोरÓ पढ़े बर मिलिस। जेन म 25 ठिन गीत ल समोखे गे हावय। गीतकार के गंभीरता अउ प्रकाशन म ऊंकर वरिष्ठता इही मेर सिद्ध होथे के ओमन लइकुसहा अंतस ल टमड़त शीर्षक संग सुघ्घर रेखाचित्र तको छपाए हाबे। जम्मो चित्र मन गीत ल बोलत जनाथे।
पीसीलाल यादव जी के गीत ल पाठक मन पढ़ते-पढ़त गुनगुना डारही अतेक सरल अउ सहज भाव म घातेच गुरतुर रचना होय हाबे। गीतकार स्वयं अंचल के बड़का संस्कृतिकर्मी आए येहा ऊंकर बालगीत संग्रह म परगट होवथाबे। लइका मन घलोक लय म गुनगुना के गाहीं-
घर-दुवार, खार-खार
रूख-राई, डार-डार
बगरे हे चंदा अंजोर।।
तरिया के पार-पार,
लइका पारे गोहार,
चंदैनी सुरतावत हे,
पानी म पांव बोर।। बगरे हे चंदा अंजोर...
डॉ. पीसीलाल यादव जी ह अपन संग्रह म बाल मन म देश प्रेम के भावना जागाए खातिर गीत गढ़े हावय जेन लइका मनके मन म गहिर ले उतरथे-
एक बार कोन कहे, सौ बार घेंट कटा के,
मान रखबो माटी के, हम खुद ल मिटा के।
कभू पाछू नइ घुंचय, जेन बड़गे कदम।
जब तक जान म हे जान...
ये वो छत्तीसगढ़ आए जिहां के सपूत अपन महिनत ले धरती ल हरियाथे, परिया म पछीना सींच के धन्हा बनाथे। जेकर पुरखा हर दुनिया बर अन्नदाता बने हावय, ऊंकर नाननान पिलारी मन कवि के मुख ले कहिथे-
सुरूज हम बन जाबो संगी
चंदा हम बन जाबो न।
दीया कस बुगुर बागर बरबो
अंधियारी ल हरके...
सुरूज हम बन जाबो न।
बालगीत संग्रह ल लइका मन खेलत-कुदत बाँचत रिथे ऊंकर भीतर गंभीर पाठक नइ राहय इही पाके गीतकार ह बाल मन ल समझत छुक-छुक भागय रेल गीत के समावेश करे हावय। बड़ सुघ्घर गीत के भाव हवय। सियानी मति ले कवि ह खेल गीत के माध्यम ले छत्तीसगढ़ के सहर मनके नाव लेके रेल चलाय हवय। यहू बताय के कोशिश करे हावय के रेल कामा चलथे, कइसे आरो देथे अऊ कहां जाके रूकथे। ओमन लइका मनके मन ल खुब जानथे अउ समझथे तेन पाके हांसी दिल्लगी तको परोसे हावय-
दई ओ दई ओ होगे करलई ओ।
मुसवा ल धर के लेगे बिलई ओ
कोठी में मुसवा दहिनारो देवय,
कान ल टेंड, बिलई आरो लेवय,
सीका के धमके, दूध-मलई ओ।
मुसवा ल धरके लेगे बिलई ओ।
अबके समय ल देखत लइका मनके मन म पुस्तक के गियान, रूख-राई खातिर मया अउ सियान के सनमान के सीख देना जरूरी होगे हावय यहू बात ल गीतकार सुंदर ढंग ले अपन संग्रह म कहे हावय-
तरि-हरि नाना मोर ना नरि नाना,
सियान के करो सनमाने
सनमाने ग भइया मोर सियान आय भगवाने
सनमाने ओ दीदी मोर सियान आय भगवाने।
गीतकार डॉ. पीसीलाल यादव जी ह सबो रस के सुवाद ल देवत थोरच-थोर म गजब अकन गोठ कहिदे हावय। ये बालगीत के मोटरी ह न सिरिफ लइका मन खातिर बल्कि सबो वर्ग के लोगन मन खातिर बड़ उपयोगी होही अइसे भरोसा हावय। काबर के सब्बोच गीत मन ह बड़ सुघ्घर हे जोन ल घेरी-बेरी पढ़े अऊ गुनगुनाए के मन करथे... 
कुकरा के बॉसत बंदे मातरम तिरंगा नई आवय काली चंदा मामा रिग बिग ले मुनगा डार म। तक धिनाधिन हमर गांव म महतारी के कोरा गाड़ा-गाड़ा जोहार...। ०



लोकप्रिय पोस्ट