काकर आदेश म लइका ला डंडा मारिस एस​डीएम तीर्थराज अग्रवाल ?

छत्तीसगढ़ म रमन सरकार के विकास यात्रा के दुसइया चरन सुरू होगे हावय जेखर नाव राखे गे हावय अटल विकास यात्रा। विकास यात्रा म पूरा शासन-प्रशासन जुटे हावय। आम जनता के कोनो ल फिकर नइये। सत्ता के नसा म अब नेता मन संग अफसर मन तको चूर होगे हावय। अफसर मन अब कोनो ल नइ गुनत हावय ये बात अमेरा गांव ले अउ उजागर होगे। बलौदाबाजार जिला के अमेरा गांव के पढ़ईया लइका मन अपन स्कूल पहुंचे बर सड़क के मांग करे खातिर धरना प्रदर्शन कर​त रिहिन हाबे। उही सड़क म बइठके जेन रद्दा ले सरकार के विकास यात्रा जवइया रिहिन हाबे। विकास यात्रा बर रद्दा चतवारे म लगे जिला के एस​डीएम ह लइका मन ल खेदारे खातिर खुदे डंडा चलाये के सुरू कर दिस। ओमन अतका गुस्सा म रिहिन के इहू तक याद नइ रिहिन के ओमन स्कूल म पढ़ईया लइका आये अउ अपन स्कूल पहुंचे खातिर सड़क के मांग करत हाबे।

पढ़ईया लइका मनला मार पीट के खेदारे के बाद भी ओकर रीस नइ भुताईस, स्कूल के दुवारी म तारा लगवा के बंद करा दे रिहिन। ये सब दादागिरी आखिर काकर सह म करत हावय एक जिला के एसडीएम ह, येकर जवाब तो सरकार ल देना परही।

चारो मुड़ अफसर के दबंगई के निंदा होवत हावय तबो ले सरकार कोनो कार्रवाई नइ करत हावय। येकर ले एक बात साफ हावय के अमेरा वाले घटना म सरकार के पूरा-पूरा संरक्षण हावय। का एक अफसर अतेक बड़का अनित अपन दम म करे सकथे ? अमेरा म धरना प्रदर्शन के जानकारी उपर ले नीचे तक के सबो अफसर मनके अलावा भाजपा के बड़का नेता मनला तको रिहिन हाबे। तभो ले लइका मनला बल पूर्वक भगाये गिस। का उंकार बात ल सुने के तको बखत नइ रिहिसे ? का उकर मांग जायज नइ रिहिस ?

एसडीएम तीर्थराज अग्रवाल उपर दू दिन बाद तको कोनो कार्यवाही नइ होवत हावय उल्टा लइका मनला स्कूल म नजरबंद राखे के उदीम होवत हाबे। बड़ निंदा के बात आए के एसडीएम तीर्थराज अग्रवाल ह पढ़ईया लइका मन उपर बल के प्रयोग करिन। ये बात के आन दल अउ सांगठन मन विरोध दर्ज करावत प्रशासन ले एस​डीएम तीर्थराज अग्रवाल ल बर्खास्त करे के मांग करत हावय।
घटना ले उपजे 10 बात-
1. अमेरा गांव म सड़क ह स्कूल तक काबर नइ पहुंच हावय अब तक।
2. स्कूली लइका मन काकर अगुवाई मन सड़क म उतरिस।
3. कहा हावय अमेरा म विकास के गंगा बोहइया नेता मन।
4. का बात के विकास यात्रा, जब क्षेत्र के जनता सड़क बनाये बर सड़क म बइठके धरना करत हावय।
5. मुख्यमंत्री ले आवश्वासन के आस म पहुंचे रिहिन लइका मन, मिले के मौका काबर नइ दिये गीस।
6. नेता मन के अगवानी म भीड़ जुटइया अफसर मन लइका मनला तको लाइन म लगा देथे ओ बखत कोनो ल जियान नइ परय, अउ जब अपन मांग बर सड़क म आगे तव एसडीएम सनक गे।
7. एजूकेशन हब के बात करने वाला मन काबर सनकाहा एसडीएम के समर्थन करत हाबे।
8. मुख्यमंत्री के काफिला जिहां जिहां गुजरने वाला रिथे तेकर जानकारी राज्य के बड़का अधिकारी मन ला रिथे जेन मुख्यमंत्री ल तको आरो करत रिथे। तव फेर सीएम साहब काबर कोनो कदम नइ उठाइसे।
9. पंच सरपंच विधायक मन कहां रिहिन ओ बखत जब लइका मन मार खावत रिहिन।
10. एसडीएम उपर का खातिर कोनो कार्रवाई नइ होवत हाबे।

लोकप्रिय पोस्ट